0
(0)

What is Astrology

Astrology is a simple science. The subject of astrology is not a new topic, but it is also mentioned in the 90,000-year-old Vedas. To understand the meaning of astrology in simple words, imagine yourself sitting on a huge tower. While sitting there, you can easily see far away into the horizon and can be aware of any cars, people and animals coming your way. In the same way, astrology can see the events hidden in the future. With the help of this science, human beings can know the favorable and adverse conditions beforehand.

In DARIA  we talk about the planets, stars, and constellations. To find how these heavenly bodies impact our lives on the earth is the main goal of the astrologers at Dharamastro.

ज्योतिष क्या है?

ज्योतिष एक सरल विज्ञान है। अगर सरल शब्दों में ज्योतिष विद्या के अर्थ को समझना है तो कल्पना करें कि जैसे एक बड़ी मीनार के गुमबंद पर बैठकर मनुष्य दूर तक देख सकता है। पर नीचे खड़ा  मनुष्य इतनी दूरी तक नहीं देख पाता ऊपर वाले गुंबद पर बैठे मनुष्य के लिए वह वर्तमान है नीचे खड़े मनुष्य के लिए वह भविष्य है ज्योतिष भी इसी तरह काम करता है। इस विज्ञान की मदद से इंसान आने वाली अनुकूल एवं प्रतिकूल अवस्थाओं को पहले से ही जान सकता है।  (D.A.R.I.A) दरिया बात कर रहा है ज्योतिष विज्ञान की सितारों की, नक्षत्रों की, आकाशगंगा की तथा सितारों के परिवार की। यह चमकते सितारे एवं घूमते हुए ग्रह समस्त पृथ्वी पर कैसे असर करते हैं, इसी का विश्लेषण ज्योतिष विद्या में किया गया है ज्योतिष का विषय कोई नया विषय नहीं है बल्कि 90,000 साल पुराने वेदों में भी इसका उल्लेख है।

भारतीय पुरातन कॉल में ऋषि मुनियों ने सितारों की गणना से जीवन पर होने वाले प्रभावों को पता लगाने के लिए बहुत शोध कार्य किया है ।तथा इसी खोज की परंपरा को सुमेरियन ने आगे बढ़ाया । अब इस सदी में भी श्री के एस कृष्णमूर्ति, पंडित श्री सीताराम झा मैथिलीलेन, पंडित देवी दयाल का अभूतपूर्व योगदान रहा है ।इसलिए ऐसा नहीं है यह विद्या लुप्त हो गई है। समय-समय पर विद्वानों ने इस पर इस पर बहुत शोध कार्य किया है। इसी शोध को आगे बढ़ाते हुए “धर्मएस्ट्रो रिसर्च इंस्टिट्यूशन ऑफ एस्ट्रोलॉजी”कोशिश कर रहा है कि यह विद्या आप तक सरल तरीके से पहुंचाई जा सके।

मानव शरीर पांच तत्व अग्नि,जल ,वायु ,आकाश ,पृथ्वी से बना है, और समस्त ब्रह्मांड भी इन्हीं पाचं तत्वों मे से ही सृजित है। यह ही पांच तत्व हमारे और ग्रहों के बीच एक समानता पैदा करते है। इसी के आधार पर ग्रह हमारे और समस्त पृथ्वी पर अपना प्रभाव डालते हैं। दरिया हमें बता रहा है कैसे नक्षत्र के आधार पर गृहो के शुभाशुभ फल तय किये जाते हैं। एक ओर जहां कुछ नक्षत्र अति शुभ माने जाते हैं तो दूसरी ओर कुछ नक्षत्र ऐसे माने जाते हैं जिनके कॉल तक कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता।

वैदिक ज्योतिष मे नक्षत्रों की संख्या 27 और गृहो की संख्या 9 और राशियां की संख्या 12 मानी जाती है। दरिया हमें बताता है कि कैसे ं जन्मतिथि, जन्म समय और जन्म स्थान की गणना से होने वाले समस्त जीवन में होने वाले प्रभावों की गणना की जाती है तथा कुछ सरल उपायों की मदद से ही जीवन में आई हुई अड़चनों को दूर किया जाता है।

 

 


Astrology is a vast field and any consultancy should be taken only from a well reputed astrologer. Dharamastro provides reliable astrological services for birth charts, gunamilan, female astrology, medical astrology, health astrology, career astrology, marriage astrology, and love astrology.



 

How useful was this post?

Click on a star to rate it!