सफेद मोती के ज्योतिष की नजर मे लाभ

0
(0)
https://youtu.be/PbXMBTmiyyE

धर्म एस्ट्रो चैनल पर आप सब का स्वागत है। धर्म एस्ट्रो चैनल ज्योतिष की अडवांस्ड रिसर्च में विशाल शोधकार्य कर रहा है। आज के इस एपिसोड मे हम सफेद मोती रतन की, उपयोगिता के बारे मे आपको  बताएंगे, और यह भी बताएंगे की सफेद मोती रतन  के पहनने के क्या फायदे होते है। 

सफेद मोती को ऐसा रत्‍न माना जाता है।  जो आपका जीवन बदल सकता है। ज्‍योतिष में इस रत्‍न को सभी रत्‍नों में सबसे तेजी से असर दिखाने वाला रत्‍न कहा गया है।  इसे पहनने को लेकर भी कई नियम और सावधानियां बताई गई हैं। 

सफेद मोती को सादगी, पवित्रता और कोमलता की निशानी माने जाने वाला एक चमत्कारी रत्न माना जाता है।इसे पहनने से यह गुण जातक मे आ जाते है। 

मोती को मुक्ता, शीशा रत्न और पर्ल के नाम से भी जाना जाता है। मोती सिर्फ एक रंग का ही नहीं होता बल्कि यह कई अन्य रंगों जैसे गुलाबी, लाल, हल्के पीले,  रंगो मे भी पाया जाता है। 

कर्क राशि वाले जातकों के लिए मोती रतन धारण करना अत्याधिक लाभकारी है । नष्ट चन्द्रमा से जनित बीमारियों,  और पीड़ा से शांति के लिए मोती धारण करना,  अति लाभदायक माना जाता है।  

सफेद मोति चंद्रमा का प्रतिनिधित्व करता है और,  चंद्रमा मन का कारक होता है।  इसलिए मोती धारण करने से,  मन स्थिर रहता है और नकारात्मक विचारों, का नाश होता है।  

सफेद मोती के प्रभाव से रिश्तों में मधुरता बनी रहती है। विशेषकर पति-पत्नी के संबंधों,  में इस का प्रभाव सफलतापूर्वक देखा गया है। 

  प्राचीन काल से ही रत्नों में मोती का बड़ा महत्व है। मोती में कुछ चिकित्सीय,  गुण भी पाये जाते हैं, विशेषकर अयूरवेद, चिकित्साविज्ञान में इसका प्रयोग किया जाता है। 

सफेद मोती में क्रिस्टल के समान आध्यात्मिक गुण भी होते हैं। मोती महिलाओं के लिए ऊर्जा का सार है।   इसलिए उन महिलाओं के लिए अत्यंत लाभकारी है। जो इस्त्री रोग से पीड़ित हैं। मोती धारण करने से, जातक के आत्म विश्वास में वृद्धि होती है और उस के जीवन में समृद्धता आती है। 

मोती शारीरिक शक्ति में बढ़ोत्तरी करता है, और बुरी ताकतों से आपकी रक्षा करता है। 

सफेद मोती के प्रभाव से स्मरण शक्ति में भी वृद्धि होती है,   और यह हमे कलात्मकता, संगीतकला और स्नेह के प्रति उत्तेजित करता है 

मन को शांति प्रदान करने और चिंतामुक्त रहने के लिए हम को मोती अवश्य पहनना चाहिए। इसे धारण करने से रिश्तों में आपसी सद्भाव बना रहता है। 

मोती रतन धारण करने से आप के आत्मविश्वास में वृद्धि होती है। जो जातक मानसिक तनाव से जूझ रहें हों उन्हें सफेद मोती को चाँदी में जड़वा कर पहैन लेना चाहिए। जिन जातको को अपनी राशि ना पता हो या कुंडली ना हो तो वो भी मोती धारण कर सकते हैं।  

हमारे मन की स्थिरता को कायम रखने में सफेद मोती पहनना अत्यंत लाभ दायक सिद्ध होता है। इसके धारण करने से मात्री पक्ष से मधुर सम्बन्ध तथा लाभ प्राप्त होते है। 

सफेद मोति पानी का प्रतिनिधित्व करता है। प्रथ्वी ग्रह पर 75 पर्सेंटेज पानी है। मानव के शरीर मे भी पानी का अनुपात 75 पर्सेंटेज है। शरीर के द्रव पर नियन्त्रण रखने मे सफेद मोती की प्रतिकूल भूमिका है। 

 द्रव्य से जुड़े रोग जैसे ब्लड प्रशर और शुगर भी मोती धारण करने से कंट्रोल किये जा सकते है। 

यदि नवजात शिशुओ का स्वास्थ्य बार बार खराब होता हो।  और उन के स्वास्थ्य मे वयाधा उत्त्पन्न हो जाती हो। तब छोटे बच्चो के गले में मोती धारण करने से लाभ रहता है।

सफेद मोति पहनने से या कुंडली में चंद्रमा के बलि होने से,  न केवल मानसिक तनाव से छुटकारा मिलता है।  वरन् कई रोग जैसे पथरी, पेशाब तंत्र की बीमारी, जोड़ों का दर्द आदि से भी राहत मिलती है। मोती रत्न धारण करने से उदर रोग भी ठीक होता है। 

यदि जन्म कुंडली मे चंद्रमा कमज़ोर स्थिति में हो तो मनुष्य में बेचैनी, दिमागी अस्थिरता, आत्मविश्वास की कमी होती है। और मानव इसी कमी के चलते बार-बार अपना लक्ष्य बदलता रहता है। 

जिस के कारण सदैव उसे असफलता ही हाथ लगती है। सफेद मोति धारन करने से आलासया, कफ, दिमागी असंतुलन, मिर्गी, पानी की कमी, आदि  रोगो के पतन मे सहयता मिलती है।  

जो जातक मानसिक शांति, अनिद्रा आदि की पीड़ा से ग्रस्त है। उन को मोती पहनना बेहद लाभदायक माना जाता है।  नेत्र रोग तथा गर्भाशय जैसे समस्या से बचने के लिए सफेद मोती, को धारण करना भी अच्छा लाभकारी माना जाता है। 

सफेद मोति रत्न उपचार, अत्यंत लाभकारी है। इसका क्या असर होगा।  इसका कितने दिनों में असर होगा।

यह सब आपकी ग्रह दशा पे निर्भर है।  पाप कर्मो के अभाव, में आप पहले ही दिन से रत्न के प्रभाव का आनंद ले सकते हैं।

इस रत्न को पहनने के साथ साथ आप शुभ कर्म भी, अर्जित करने का भी प्रयास करते रहे, तो रत्न पहनने का फल निश्चित ही बड जाता है।

मोती सोमवार के दिन धारण करना अति शुभ होता है। मोती धारण करते समय चन्द्रमा का ध्यान तथा उनके मंत्रों का 108 बार जाप करना चाहिए। 

शुध्द चांदी की बनी अंगूठी में मोती धारण करना अत्यधिक श्रेष्ठ माना जाता है। 

इस एपिसोड में आपने जाना की मोती रतन पहनना किन जातकों के लिए लाभदायक रहेगा। और किस तरह आप को मोती रतन पहनकर अपने उद्देश्य को पूरा करना चाहिए। 

व्यक्तिगत जानकारी और, अपने लिये मोती रत्न का शुभ अशुभ असर जानने के लिये हमारी वेबसाइट , www.Dharamastro.com पर जाये।

धर्म एस्ट्रो के साथ बने रहने के लिए आप सब का धन्यवाद।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!