मूलाकं 7

Horoscope, Janam Kundali, Business Problems, Health problems

0
(0)

मूलाकं 7  जिन जातको का जन्म महीने की ,7, 16, 25, तारीख को हो तो उनका मूलाकं 7होता है। सूक्ष्म गणना करने के लिए मूलांक निकालना चाहिए। जिसके लिए दिन, मास , वर्ष की गणना करनी चाहिए। जिन व्यक्तियों का मूलाकं 7 होता है। वह जातक केतु ग्रह से प्रभावित रहता है।

मूलाकं 7 वाले जातक जन्म से ही चलाक परन्तु नेक दिलवाले होते है। यह जातक अपने कार्य को कल पर टालने की प्रवृति के नहीं होते है। परंतु इन के लिये कोई निर्णय कर पाना सरल नही होता है। मूलाकं 7 वाले जातक बड़े उदार, होते है । यह जातक बडबोले, अपनी ही कल्पनाओं में जीने वाले  होते है। यह जातक कई बार अपने कार्यों को जल्दी करने के कारण उलझा लेते है।

यह जातक थोडे लापरवाह और भगवान के भरोसे जीते है और अपनी सम्पूर्ण क्षमताओं का उपयोग नहीं कर पाते है।  मूलांक 7 के जातक विपरीत योनी के प्रति आकर्षण का भाव रखते है और अपनी इच्छा पूर्ति के लिए कोई भी कार्य करने में दिलचस्पी रखते है।

मूलाकं 7 के जातक  वाहनों को खरीदना बेचना , साहित्य, पर्यटक गाईड, ड्राईवर की नौकरी, कोरियर का कार्य ,  बिजली का सामान बेचना, प्लास्टिक व्यवसाय, ज्योतिष कार्य, औषधियों की दूकान के कार्य मे हो सकते है। मूलाकं 7 वाली स्त्रियाँ को भी विपरीत योनी के प्रति आकर्षण होता है। पर मूलाकं 7 वाली स्त्रियाँ अपने कुल और खानदान की मान मर्यादा की खातिर कोई अनुचित कार्य नहीं करती है।

मूलांक 7 की स्त्रियाँ अपने पति पर पूर्ण निर्भर रहती है। खुद  आपने परिवार को आर्थिक सहयोग भी करती है। केतु के प्रभाव के कारण मूलाकं 7 की स्त्रियाँ एवं पुरुष दोनों के लिए बचत करना संभव नहीं हो पाता है। परन्तु इनका किसी भी प्रकार का कार्य भी नहीं रुकता है।मूलाकं 7 वाले कर्ज लेकर कार्य करते रहते है। मूलाकं 7 के जातकों को छाती एवं फेफड़ों  से सम्बंधित रोगों की संभावना अधिक रहती है। मूलाकं 7 के जातकों को गुप्त रोगों के होने की अधिक संभावना बनी रहती है।

मूलांक 7 का स्वामी ग्रह केतु है कई विद्वान इसे नेपच्यून ग्रह का अंक भी मानते है। मूलांक 7 वाले जातक मौलिकता, स्वतंत्र विचार-शक्ति तथा असामान्य व्यक्तित्व के मालिक होते हैं।  यह जातक शांत चित्त नहीं बैठ पाते सदैव कुछ न कुछ करते और सोचते रहते है। यह जातक सदैव बदलाव और यात्रा के लिए उत्सुक रहते है। मूलांक 7 वालों की कल्पनाशक्ति अति तीव्र होती है और इन मे अभिव्यक्ति की अच्छी क्षमता होती है।

यह जातक स्वतंत्र रूप से और निडरता से साफ साफ बात कहने वाले होते है।  मूलाकं 7 वाले जातकों मे प्रबल आत्मविश्वास होता हैं। मूलांक 7 वाले समाज में प्रतिष्ठित रहते है। लेकिन यह छोटी छोटी बातो पर ही चिड़चिडे हो जाते है। यह जातक चिंता करके राइ का पहाड़ बना देते हैं। मूलाकं 7 वालो को अपनी इस प्रवृत्ति पर संयम रखना चाहिए।

मूलाकं 7 वाले जातक  कला एवं गुप्त विद्या में निपुण होते है। इन जातको कीशिक्षा का स्तर उच्च होता है। इनकी प्राथमिक शिक्षा का स्तर कुछ कम रह सकता है। लेकिन धीरे-धीरे इनकी शिक्षा का स्तर उच्च हो जाता है। कुछ परीक्षाओं में इन्हें असफ़लता भी मिलती है।मूलाकं 7 वालो की खोजी प्रवृत्ति इन्हें सफलता दिलाती है। ये अनेक ग्रंथों के ज्ञाता भी माने जाते हैं।

मूलाकं 7 वालो की आर्थिक स्थिति नेक होती है। यह अपनी मौलिकता के बल पर ये धन अर्जित करते है। परन्तु धन का संग्रह नहीं कर पाते। सामान्य रूप से ये खर्च कम ही करते है।  यह जातक दान पुण्य आदि में काफी धन खर्च कर देते है। इन जातकों की आर्थिक स्थिति को सामान्य ही कहा जा सकता है।

मूलाकं 7 वाले जातकों का  आपने भाई बहनों के साथ व्यवहार अच्छा होता है।  यह जातक समय समय पर भाई बहनों से आवश्यक वस्तुओ का लेनदेन करते रहते है। इनकी मित्रता बुद्धि-जीवियो से रहती हैं। इन जातको की मित्रता जयदा स्थायी नहीं रहती। तथा स्थायी मित्र कम ही होते हैं, 1,2,3, 5, 6, 7 व 9 मूलांको वाले व्यक्तियों से ही अधिक पटती हैं|

मूलाकं 7 वाले जातकों के प्रेम संबंध अधिक स्थायी नहीं रहते है।  इनकी गंभीर प्रवृति इन के प्रेम संबंध के आड़े आती है। यह जातक प्रेम का दिखावा तो नहीं करते लेकिन इनके भीतर प्रेम खूब बरसता है।मूलाकं 7 वालो के वैवाहिक जीवन प्रायः सुखी रहता हैं। मूलांक 7 वाले कुछ जातक विवाह करने से बचना चाहते है।

मूलाकं 7 वाले जातकों के कार्यक्षेत्र विस्तरित होते है। इन की कल्पना-शक्ति व अभिव्यक्ति की अच्छी क्षमता के कारण कवि, लेखक व दार्शनिक के रूप में अधिक सफल हो सकते है। इसके अतिरिक्त डॉक्टर, अध्यापक, जज, सरकारी अधिकारी, ज्योतिषी आदि के रूप में भी ये कार्य करते देखे गए हैं।

मूलाकं 7 वाले  जातक मानसिक रोगों से पीड़ित हो सकते है। इसके आलावा कमजोरी, पाचन-दोष, रक्तचाप कम या ज्यादा होना, त्वचा रोग, नज़र कमजोर होना आदि रोगों से भी इन्हें परेशानी हो सकती है।

मूलांक 7 वाले जातक केतु ग्रह के प्रभाव के अंतर्गत होने के कारण। उन की प्रगति समय पर निर्णय ना कर पाने के कारण रूकती रहती है। बालों का झड़ना और नाक का कार्य ना करना यानी सुगंधी का ना पता लगना और घर पर सीढ़ियों का उतर दिशा मे होना बुरे समय की निशानी होगी।

मूलाकं 7 वाले जातक सभी प्रकार की परेशानियों से बचने के लिए। लहसुनिया  को सोने या चाँदी की अँगूठी में फिट करवा कर। बुधवार और शुक्रवार के दिन बुध की होरा के समय पूजा घर में जाकर। अँगूठी को दूध में व् गंगाजल में स्नान करवा कर। केतुदेव के मंत्र। “ ॐ ह्रीं केतवे नमः “। का उच्चारण 108 बार करके अँगूठी को सिद्ध करके अनामिका उँगली में पहनना चाहिए। केतु की खराब दशा में केतु के मंत्र का नित्य जाप करना नेक फल देगा।

जन्माक  7 के लिए अनुकूल

समयावधि  22 जून से 23 जुलाई  तक का समय

अधिष्ठाता ग्रह   केतु

शुभ वार  बुधवार और शुक्रवार

तारीख  7 , 16 और  25

मित्रता मूलांक  2 और 7 वाले व्यक्ति

रंग  सफेद, गुलाबी   

दिशा  पूर्व-दक्षिण तथा उत्तर

रत्न  लहसुनिया

धातु  चांदी और स्वर्ण

जन्माक 7  के लिए प्रतिकूल

समयावधि  24 अगस्त से 23 सितम्बर तक का समय

अधिष्ठाता ग्रह

शुभ वार  गुरूवार

तारीख  5, 14, और 23   

मित्रता मूलांक  4 और 8 वाले व्यक्ति

रंग  गहरा हरा और  लाल

दिशा नैरुत्य और आग्नेय   

रत्न  मूंगा ,लासनिया,

धातु  लोहा और कांस्य

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Skip to toolbar