मूलांक 3

0
(0)

जिन जातको का जन्म महीने की , 03 , 12 , 21 , 30  , तारीख को हो उनका जन्मांक 3 होता है। सूक्ष्म गणना करने के लिए मूलांक निकालना चाहिए ,जिसके लिए दिन, मास , वर्ष की गणना करनी चाहिए। जिन जातको का मूलाकं 3 होता है। वह जातक गुरु ग्रह से प्रभावित रहता है।

मूलाकं 3 के जातक जन्म से ही विवेकशील, मेहनती , तथा साहसी एवं अनुशासनप्रिय होते हैं। यह जातक बहुत ही तीक्ष्ण बुद्धि वाले भी होते है। मूलाकं 3 के जातक सरकारी सेवा में न्यायधीश , राजदूत ,प्रशासक अधिवक्ता , वैज्ञानिक एवं व्यापार में प्रकाशन ,दवा व्यवसाय मे होते है।

मूलाकं 3 वाले जातक अपनी प्रशंसा सुनकर प्रसन्न होते है। इन को चापलूसी सुनने की आदत से उनको कई बार नुकसान भी होता है।  मूलांक 3 वाले जातक बालों में सफेदी आने के साथ कई बार अहंकारी होने लगते है। जिस से उन की परिवारिक सदस्यो और मित्रों के साथ समस्याएं उत्पन्न होने शुरू हो जाती है। धार्मिक स्थान पर जाकर सर झुकाना  मूलांक 3 वालो को सफलता मे सहायक होता है।

मूलाकं 3 के व्यक्ति बहुत ही शान्त प्रकृति के भी होते है। मूलाकं 3 वाली स्त्रियाँ अपने पति पर पूर्ण अधिकार रखती है और अपने पति के प्रति पूर्ण समर्पित होती है। वह आपने पति की पुर्ण रूप से सहायक भी होती है। मूलाकं 3 की स्त्रियाँ अपने पति के सभी कार्यों में आपना सम्पूर्ण सहयोग देती है। मूलाकं 3 के जातकों के ग्रह स्थान  उत्तर से पश्चिम नीचा हो तो जातक को मधुमेह रोग अर्थराइटिस रोग होने की और बाल झड़ने की पूर्ण संभावना रहती है।

मूलांक 3 का स्वामी ग्रह बृहस्पति है, जो सभी ग्रहों के गुरु हैं। मूलांक 3 वाले जातक बड़े स्वाभिमानी होते हैं वह किसी के आगे झुकना पसंद नहीं करते है। ये जातक किसी का एहसान नहीं लेना चाहते हैं। इन्हें आपने कार्या मे बाहरी व्यक्ति का हस्तक्षेप पसंद नहीं होता है। जातक अपनी स्वतंत्रता से समझौता करना पसंद नहीं करता है। मूलांक 3 वाले व्यक्ति साहसी, वीर, शक्तिशाली, अविचल, संघर्षशील, श्रमजीवी तथा कष्टों से हार न मानने वाले होते हैं।

मूलाक 3 वाले जातको मे रचनात्मक क्षमता पर्याप्त मात्रा में होती है। ये जातक जिस कार्य को ठान लेते है तो उसे करके ही छोड़ते हैं। ये जातक महात्वाकांक्षी भी होते हैं।  ये जातक अच्छे विचारक, दूरदर्शी, संभावित घटनाओ को भांप लेने वाले होते हैं। मूलांक 3 वाले उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त करते है। ये बड़े अध्यनशील होते है और पढने लिखने में चतुर होते हैं। मूलाकं 3 वाले जातकों की रूचि  विज्ञान व साहित्य में इनकी अत्यधिक होती है। ये जातक पढाई में सफल रहते हैं। मूलाकं 3 वाले जातकों को घुड़सवारी व निशानेबाजी का अच्छा शौक होता है और ये लोग इन क्षेत्रों में भी सफल हो सकते हैं।

मूलाकं 3 वालो की आरम्भिक उम्र में आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती है। शुरू शुरू मे  इनके पिता को इनके ऊपर बहुत खर्चे करने पड़ते हैं। लेकिन उम्र बढ़ने के साथ-साथ इनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होता रहता है। मूलाकं 3 वाले जातकों की आमदनी के एक से अधिक साधन होते हैं। धन सम्पत्ति को लेकर इन्हें कई बार मुकद्दमेंबाजी का भी सामना करना पड़ता है।

मूलाकं 3 वाले जातक अपने भाई बहनों के लिए काफी कुछ करते हैं, लेकिन इन्हें अपने भाई बहनों से अधिक सहयोग नहीं मिल पाता है। परन्तु भाई बहनों और मित्रो के साथ इनके सम्बंध अच्छे रहते हैं। ये जातक अपने अन्य रिश्तेदारों की भी खूब मदद करना चाहते है। मित्रों की संख्या खूब होती है। मूलांक 3 ओर मूलाकं 6 वाले इनके करीबी मित्र होते है।  कठोर अनुशासन के कारण कुछ लोग इनके विरोधी भी बन जाते है। लेकिन फिर भी यह जातक सभी के प्रति विनम्र व मिलनसार रहते है। हालांकि मूलाकं 3 वालो को किसी एक मित्र से सदैव हानि व विश्वासघात की सम्भावना बनी रहती है।

मूलाकं 3 वालो के प्रेम सम्बन्ध स्थायी नहीं रहते परन्तु सामान्य तौर पर जातकों का वैवाहिक जीवन सुखी रहता है। आपनी चंचल प्रवृति के कारण जातको को कभी-कभी इनके एक से ज्यादा विवाहो के योग बनते हुए देखा गया है। जिनमें से पहला विवाह सदैव कष्ट देता है। यह जातक  विलासी प्रवृति के भी होते है। लेकिन फ़िर भी अपने मान सम्मान को बनाये रखते है। जातको की धार्मिक कार्यो में अधिक रूचि घर में अशांति लाने का कारण बन सकती हैं। इनके पुत्र और पुत्री दोनो की प्राप्ती योग रहता है। बड़ी जातकों को संतान से कष्ट मिलने की सम्भावना रहती है।

मूलांक 3 वाले सेना व पुलिस, प्रशासनिक अधिकारी, सचिव, राजदूत-नेता, बैंको में अधिकारी तथा धार्मिक नेता आदि बनने मे रूचि रहती है। ये जातक लेखक, अध्यापक, डिजायनर, सेल्समेन, प्रोफेसर भी हो सकते हैं। इन जातकों को आपने कार्यों में हमेशा दक्ष ही देखा गया है। ये लोग अपने कार्य में अतिरिक्त निपुण होते हैं।मूलाकं 3 वालो जातकों की  जीवन शक्ति अच्छी होती है। परन्तु इन्हे तंत्रिका संस्थान के रोग, त्वचा सम्बंधित रोग, पीठ दर्द एवं पैरो में वात का दर्द आदि रोग इन्हे परेशान कर सकते हैं।

सभी प्रकार की परेशानियों के लिए मूलाकं  3 के जातकों को हर जेष्ठ गुरूवार के दिन सूर्योदय के समय पीले  वस्त्र , व् पीली वस्तुओं आदि का दान करना चाहिए एवं गुरु मंत्र “ ॐ ब्रीं ब्रहष्पताय  नमः “ का जप करना चाहिए और इस मंत्र का जाप नित्य करने से कार्य में सफलता रहेगी।

कृपया इस चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें और व्यक्तिगत प्रश्न कुंडली और जन्म कुंडली के लिए हमारी वेबसाइट www. धर्मएस्ट्रो डॉट कॉम पर जाये और इस चैनल को लाइक जरुर करें।

मूलाकं 3 के लिए अनुकूल

समयावधि  20 फरवरी से 20 मार्च एवं 23 नवम्बर से 20 दिसंबर तक का समय

अधिष्ठाता ग्रह  गुरु

शुभ वार  गुरूवार और शुक्रवार

तारीख 3  , 12 , 21   और 30

मित्रता मूलांक   3 , 6 , 9, वाले व्यक्ति

रंग पीला , जामुनी , सुनहरी

दिशा ईशान

रत्न  पुखराज  

धातु  स्वर्ण

मूलाकं 3 के लिए प्रतिकूल

समयावधि २२ जून से २३ जुलाई तक का समय

अधिष्ठाता ग्रह

शुभ वार   बुधवार और रविवार

तारीख  2 , 11 , 20 , और 29  

मित्रता मूलांक  2    और  4    वाले व्यक्ति

रंग  नीला और लाल

दिशा नैरत्य  

रत्न माणिक

धातु  लोहा और ताम्बा

How useful was this post?

Click on a star to rate it!