मूलांक 2

Horoscope, Janam Kundali, Business Problems, Health problems

0
(0)

मूलाकं  2, जिन जातकों का जन्म महीने की , 02  , 11 , 20 , 29 , तारीख को हो उनका जन्म मूलाकं 2 होता है। सूक्ष्म  गणना करने के लिए मूलांक निकालना चाहिए। जिसके लिए दिन, मास , वर्ष की गणना करनी चाहिए। जिन व्यक्तियों का जन्म मूलाकं 2 होता है। वह जातक चन्द्र गह से प्रभावित हो कर चन्द्र जैसा शान्त और कम बोलने वाला हर बात का छोटा सा जवाब दे कर चुप हो जाना  उसका स्वभाव होता है। जिस कारण जातक जीवन में सफल रहता है।

मूलांक 2 का स्वामी ग्रह चन्द्रमा है, और चन्द्रमा को शीघ्रगामी ग्रह माना गया है, मूलांक 2 से संबंधित लोग अत्यंत कल्पनाशील, भावुक, सहृदय और सरलचित्त होते है। मूलाकं 2 के जातक जन्म से ही चंचल , अकर्मण्य  , योजना बना कर न चलने वाले तथा सूक्षम मानसिक स्तिथी वाले होते हैं। मूलाकं 2 वाले जातक मन से बहुत ही कोमल और भावुक होते है। मूलाकं 2 के जातक प्रकाशन, लेखन, व् काव्य में भी पर्याप्त रूची लेते हैं। यह जातक बहुत ही शान्त प्रकृति के भी  होते है। जातक सकारात्मक सोच वाले और प्रसन्न चित वहाले होते है।

कृपया इस चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें और व्यक्तिगत प्रश्न कुंडली और जन्म कुंडली के लिए हमारी वेबसाइट www. धर्मएस्ट्रो डॉट कॉम पर जाये और इस चैनल को लाइक जरुर करें।

मूलाकं 2 वाली स्त्रियाँ अति सुन्दर व कोमल विचारों वाली होती और भाग्यवान होती है। अपने पति और परिवार के प्रति पूर्ण रूप से हितेषी होती है। मूलाकं 2 वाली स्त्रियाँ अपने पति की चहेती भी होती हैं | आगर मूलाकं 2 के जातकों का घर उतर दिशा मे बन्द हो तो जातक को फेफड़ों व् क्षय से सम्बंधित तथा मानसिक रोग होने की संभावना बनी रहती है |

मूलाकं 2 वाले जातक न तो अधिक समय तक एक ही कार्य पर स्थिर रह सकते हैं और न ही लंबे समय तक सोच सकते हैं। मूलाकं  2 वाले जातको मे रचनात्मकता कूट-कूट कर भरी होती है। ये जन्मजात कलाकार होते हैं। ये मूलतः बुद्धिजीवी होते हैं। जातक मस्तिष्क के स्तर अधिक सबल एवं स्वस्थ होते हैं, यहीं कारण है कि ये समाज के लिए अच्छे प्रेरक सिद्ध होते हैं। मूलाकं 2 वाले जातकों के  मन में नित नए नए विचार आते रहते हैं जिन्हें साकार देने के लिए ये सतत प्रयासरत रहते हैं।

मूलांक 2 वाले जातक सामान्य तौर पर  शारीरिक रूप से अधिक बलवान नहीं होते। इनमें जातकों  मे आत्मविश्वास की थोड़ी सी कमी रहती है। फलस्वरूप ये जातक तुरंत कोई निर्णय नहीं ले पाते। मूलांक 2 वाले जातको की  सौंदर्य के प्रति रुचि परिष्कृत होती है। यह जातक प्रेम और सौंदर्य के क्षेत्र मे महारथी कहे जा सकते हैं। जातक दूसरों को सम्मोहित करने की कला में ये प्रवीण होते हैं। अपरिचित से अपरिचित व्यक्ति को परिचित बना लेना इनके बाएं हाथ का खेल होता है।

स्वभाव से शंकालु होते हुए भी ये दूसरों के हित का पूरा ख्याल रखते हैं। किसी को सीधे कहना इनके स्वभाव में नहीं होता। दूसरों के मन की बात जान लेने में ये प्रवीण होते हैं। मूलांक 2 वाले अच्छी शिक्षा प्राप्त करते हैं और जातक उत्तम कल्पना शक्ति के कारण ये लोग बेहतर होते है। जातक भय, वहम एवं परिवर्तनशील स्वभाव के कारण कभी-कभी आपनी पढ़ाई में रुकावटें भी सहते है। जो पढाई मे बीच पीछे रह जाते है। जातक आपनी योग्यता अनुसार  शिक्षा प्राप्ती को लेकर असंतुष्ट रहते है।

मूलांक 2 वालों की आदत धन जमा करने की नही होती है। ये धन प्राप्त करके और उसे खर्च  कर प्रसन्न होते हैं। परन्तु इनकी आर्थिक स्थिति अच्छी ही होती है। ये जातक धन कमाने की योजना बनाने में माहिर होते हैं।

भाई बहनों के साथ इनके सम्बंध अच्छे रहते है। कभी-कभार भाई बहनों और मित्रो के साथ कुछ वैचारिक मतभेद हो जाते हैं लेकिन जल्द ही संबंधों में सुधार भी हो जाता है। मित्रों के साथ इनका व्यवहार स्थिर नहीं रहता। हालांकि ये अपने मित्रों से बहुत प्रेम करते है। लेकिन अत्यधिक प्रेम व हस्तक्षेप के कारण इनके कुछ मित्र इन्हें छोड देते हैं।जातक  प्रेम के मामलों में अधिक सफ़ल नहीं देखे गये है। इनके प्रेम संबंधों को अस्थिर देखा गया है। जातकों को प्रेम संबंधों में हानि उठाते देखा गया है। मूलांक २ का पारिवारिक जीवन सुखद होता है। मूलाकं 2 बच्चो से बहुत प्रेम करते हैं साथ ही बच्चे भी इन्हें खूब प्रेम करते है।

मूलांक 2 वाले को स्वतंत्र रूप से कार्य करने से अधिक लाभ होता है। जातक औरों की बनाई योजना को बखूबी पूरा कर सकते हैं। ये जातक अच्छे योजनाकार हो सकते है और अपनी योजना को पूर्ण रूप से अमल में लाने के लिए संघर्ष करके सफलता प्राप्त करते है। मूलाकं 2 वाले अच्छे व्यापारी भी होते है। यह जातक कृषि कार्य, दूध और पानी से जुडे काम, तरल पदार्थों या दवाओं से जुडे काम, न्याय, नहर विभाग, शिक्षा विभाग, बैंक एवं स्वास्थ्य विभाग से इन्हें अच्छा लाभ मिलता है। ये संगीत, गायन, लेखन आदि क्षेत्रों में अच्छा करते देखे गए हैं।

मूलाकं 2 वाले जीवनशक्ति कमजोर होने के कारण सामान्यत: इन्हें बीमारी का वहम रहता है। इन्हें पेट से सम्बंधित परेशानियां, रक्त विकार, छाती एवं फ़ेफ़डों का रोग तथा मानसिक तनाव से कष्ट हो सकता है।सभी प्रकार की परेशानियों से बचने के और सफलता प्राप्त करने के लिए जातक को हर जेष्ठ सोमवार के दिन सूर्योदय के समय स्वेत वस्त्र , घी, शंख , मोती, बैल , चावल , आदि का दान करना चाहिए। एवं चन्द्र  मंत्र “ ॐ सं सोमाय नमः “ का १०८ बार रोजाना जाप करना चाहिए। एक वर्ष नियमित रूप से करने पर जातक सर्व सिद्धि प्राप्त होता है

जन्माक 2 के लिए अनुकूल

समयावधि  22 जून से 21  जुलाई तक का समय

अधिष्ठाता ग्रह  चन्द्र

शुभ वार  सोमवार और गुरूवार

तारीख   2 , 11 , २०  और 29

मित्रता मूलांक  2 , 3 , 4 , 6 , 9, वाले व्यक्ति

रंग सफेद  , क्रीम , हल्का हरा

दिशा वायव्य  और उत्तर

रत्न  मोती

धातु  चांदी

जन्माक 2 के लिए प्रतिकूल  

समयावधि  21 जनवरी  से 19 फरवरी तक का समय

अधिष्ठाता ग्रह

शुभ वार  मंगलवार, बुधवार,

तारीख 5 और 8

मित्रता मूलांक  5 और 8 वाले व्यक्ति

रंग हरा नीला और काला

दिशा आग्नेय और दक्षिण

रत्न  नीलम और गोमेद

धातु  लोहा और ताम्बा

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Skip to toolbar