पुखराज और ब्रह्माण्डीय ऊर्जा का प्रभाव

0
(0)
https://youtu.be/lDPu_DzVTHU

धर्म एस्ट्रो चैनल पर आप सब का स्वागत है। धर्म एस्ट्रो चैनल ज्योतिष के रिसर्च में विशाल कार्य कर रहा है। आज के इस एपिसोड मे हम पुखराज रतन की उपयोगिता के बारे मे आपको बताएंगे और बताएगे की पुखराज रतन के पहनने के क्या फायदे होते है।

पुखराज रतन को ऐसा रत्‍न माना जाता है जो आपका जीवन बदल सकता है। ज्‍योतिष शास्‍त्र में इस रत्‍न को सभी रत्‍नों में सबसे तेजी से असर दिखाने वाला रत्‍न कहा गया है।  इसे पहनने को लेकर भी कई नियम और सावधानियां बताई गई हैं। 

रत्न विज्ञान मे पुखराज को अत्‍यंत महत्‍व दिया गया है। यह रत्‍न देवताओं के गुरु बृहस्‍पति का प्रतीक माना जाता है। प्राचीन ‍ज्योतिष में भी बृहस्‍पति को शुभ एवं लाभकारी ग्रह बताया गया है। एवं इस ग्रह से संबंधित क्षेत्रों में लाभ पाने के लिए ही पुखराज रत्‍न धारण किया जाता है। 

बृहस्‍पति को ज्ञान, धर्म एवं संतान सुख का कारक माना जाता है। अगर बृहस्‍पति जन्म कुंडली मे शुभ स्‍थान में बैठा हो या। किसी शुभ ग्रह के साथ युति में हो तो इस स्थिति में व्‍यक्‍ति को पारिवारिक। एवं सामाजिक सुख की प्राप्‍ति होती है। इन्‍हीं क्षेत्रों में लाभ पाने के लिए बृहस्पति का रत्‍न पीला पुखराज पहना जाता है। 

पुखराज को अंग्रेजी में यैलो सैफायर कहा जाता है। इसके अलावा इस रत्न को कई अन्‍य नामों से भी जाना जाता है। जैसे कि गुरु रत्‍न, पुष्‍कराज रत्‍न, पुष्‍परागम रत्‍न, कनकपुष्‍यरागम रत्‍न और पीतामणि।  धनु और मीन राशि वाले इसे पहन कर जीवन मे बाधाऔ को पार कर आपार सफलता प्राप्त कर सकते है। 

पुखराज आप को व्‍यापार, नौकरी, शिक्षा के क्षेत्र में सफलता पाने मे सहयक होता है। और ये रत्न पहनने से आपकी आर्थिक एवं सामाजिक स्थिति में भी सुधार होता है।सेहत, वैवाहिक जीवन और पैतृक संपत्ति जैसे क्षेत्रों में पुखराज का पहनना लाभ प्रदान करता है। 

बृहस्‍पति समृद्धि वैभव और ज्ञान का स्‍वामी है। इसलिए इस के रत्‍न को पहनने से  व्‍यापार एवं नौकरी मे सफलता और भाग्‍य, का साथ मिलता है। बुद्धि एवं रचनात्‍मक कार्या जैसे कानून वा शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों के अलावा ये रत्न व्‍यापारियों को भी फायदा पहुंचाता है। 

आर्थिक रूप से स्थिरता लाने और इच्‍छाशक्‍ति बढ़ाने के लिए पुखराज  पहनने को बहुत लाभकारी माना जाता है। भौतिक सुख की प्राप्‍ति के लिए भी इसे पहना जा सकता है। ये पीले पुखराज के सकारात्‍मक लाभों में से एक है। 

पुखराज रत्‍न का सबसे बड़ा फायदा यह है कि। इसे पहनने से वैवाहिक सुख में आ रही परेशानियां दूर होती हैं। पति-पत्‍नी में अनबन चल रही हो या दोनों के रिश्‍ते में मनमुटाव हो तो इस स्थिति को पुखराज पहनने से ठीक किया जा सकता है। 

पुखराज पहनने से प्रेम और वैवाहिक जीवन मे अधिक सुख मिलता है। अगर किसी कन्‍या का विवाह नहीं हो पा रहा है। या उसके विवाह में कोई न कोई अड़चनें आ रही हैं। या उसे मनचाहा वर नहीं मिल पा रहा है। तो उसे कार्या मे सफलता के लिये  पुखराज पहनना चाहिए। 

परिवार में सुख-शांति लाने और पारिवारिक सुख की प्राप्‍ति के लिए भी इस रत्‍न को धारण किया जाता है। अगर आपके परिवार में लड़ाई-झगड़ा रहता है। या परिवार के सदस्‍यों के बीच प्रेम नहीं है। तो पुखराज  के पहनने से ये समस्‍या दूर की जा सकती है। 

पुखराज बहुत ही शक्तिशाली और असरकारी रत्‍न है। इस रत्‍न को कोई भी धारण कर सकता है। क्‍योंकि इसको धारन करने पर कोई दुष्‍प्रभाव नहीं होते हैं। पीला पुखराज बृहस्‍पति के साथ-साथ अन्‍य ग्रहों के अशुभ प्रभावों को भी दूर करता है।

शरीर के सात चक्रों में से मणिपूर चक्र का स्‍वामी बृहस्पति है। यह चक्र मानव के पाचन तंत्र और प्रतिरक्षा तंत्र को नियंत्रित करता है। इस चक्र को संतुलन प्रदान करने के लिए पुखराज पहना जाता है। 

पुखराज का पहनना त्‍वचा के लिए  बहुत फायदेमंद होता है। त्‍वचा से संबंधित बीमारियों जैसे कि सोरायसिस और डर्मेटाइटिस के इलाज में पुखराज सहयक रहता है। 

यह रत्‍न चिंता और तनाव को दूर कर मानसिक स्थिरता प्रदान करता है। पुखराज धारन करने से कर्ता के मस्तिष्‍क पर सकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है। 

अस्‍थमा, ब्रोंकाइटिस, साइनस, फेफड़ों से जुड़ी बीमारियों को भी इस रत्‍न को पहन कर  काफी हद तक ठीक किया जा सकता है। 

हड्डियों से जुड़ी बीमारियों, जोड़ों में सूजन और गठिया के मरीज़ों को भी पुखराज पहनने से रोग से राहत मिलती है। 

पुखराज पहनने से उन व्यक्तियों को सबसे ज्यादा शक्ति मिलती है। जो निराश रहते है। इस रत्न को धारण करने के बाद व्यक्ति सकारत्मक सोच से भरपूर हो जाता है। और जातक का मन स्वस्थ रहता है। 

जिन व्यक्तियों का कोई ज़मीनी विवाद जो वर्षों से चल रहा हो। तो पुखराज रत्न धारण करने के बाद सुलझ जाता है।  इस रत्न के धारण करने से व्यक्ति को शिक्षा के छेत्र में सबसे ज्यादा सफलता प्राप्त होती है।  

व्यक्ति का हर बिगड़ा काम बन जाता है। इस रत्न के पहनने से व्यक्ति के जीवन में समस्याओं का निवारण होता है।  इसके पहनने से व्यक्ति का भाग्य चमक जाता है और धन की प्राप्ती होने लगती है।  और उसका रुका हुआ पैसा भी प्राप्त होजाता है ।   पुखराज  पहनने से व्यक्ति यश , कीर्ति तथा वैभव प्राप्त करता है । 

पुखराज धारन करते ही व्यक्ति के जीवन में सब कुछ अच्छा होने लगता है।  सही निर्णय लेने की एक अलोकिक शक्ति प्राप्त होती है ।  जीवन में चारो तरफ से उन्नति और भाग्य का उदय होता है । 

इसके पहनने से व्यक्ति को सभी जगह सुख प्राप्त होता है। उसका घर धन धान्य से भरपूर हो जाता है। उसकी संपत्ति बढ़ने लगती है। पुखराज धारन कर्ता के चहरे पे एक अलग निखार देखने को मिलता है। 

पुखराज का अत्याधिक प्रभाव शरीर मे फेफड़ों पर रहता है। सीने में जलन , क्षवाश फूलना , अल्सर , गठिया , तथा टीवी आदि रोगों में यह रत्न धारण करने से फायदा मिलता है।और धारन कर्ता व्यक्ति स्वस्थ हो जाता है । 

ऐसे व्यक्ति जिनको विवाह के काफी समय हो जाने के बाद भी। उन्हें कोई संतान प्राप्ति नही होती। परन्तु जब वे व्यक्ति इस रत्न  को धारण करते है। तो उसके कुछ समय मे ही सन्तान प्राप्तीके योग बन जाते है। और उस व्यक्ति को संतान का सुख भी प्राप्त हो जाता है । 

 पुखराज धारन करने पर धारन कर्ता  को आर्थिक लाभ भी मिलता है । यह रत्न कानूनी काम काज में सफलता के लिये बहुत बड़ा योगदान निभाता है। जिस व्यक्ति के वर्षों से कोर्ट कचहरी के चक्कर लग रहे हो। उन्हें पुखराज धारन करने पर  निश्चिंत ही विजय प्राप्त होती है। 

पुखराज रत्न उपचार, अत्यंत लाभकारी है। इसका क्या असर होगा।  इसका कितने दिनों में असर होगा।

यह सब आपकी ग्रह दशा पे निर्भर है।  पाप कर्मो के अभाव, में आप पहले ही दिन से रत्न के प्रभाव का आनंद ले सकते हैं। 

सोने या चांदी की अंगूठी में पुखराज जड़ाकर वीरवार के दिन धारण करना चाहिए। चूंकि यह एक बेहद प्रभावशाली रत्न होता है। इसलिए इसे धारण करने से पहले सलाह और परामर्श कर लेना चाहिए। पुखराज की जगह  सूनेला भी धारण किया जा सकता है।

इस एपिसोड में आपने जाना की  पुखराज रतन पहनना किन जातकों के लिए लाभदायक रहेगा। और किस तरह आप को पुखराज रतन पहनकर अपने उद्देश्य को पूरा करना चाहिए। 

व्यक्तिगत जानकारी और, अपने लिये पुखराज रत्न का शुभ अशुभ असर जानने के लिये हमारी वेबसाइट , www.Dharamastro.com पर जाये।

धर्म एस्ट्रो के साथ बने रहने के लिए आप सब का धन्यवाद।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!